Saturday, 20 November 2021

व्याकरण किसे कहते हैं व्याकरण के मुख्यतः कितने अंग हैं? Vyakaran kise kahate hain

Vyakaran kise kahate hain - अगर आप एक student है तो हिंदी व्याकरण के बारे में जरूर से सुना होगा। हिंदी में व्याकरण का बहुत ही महत्व होता है। जिस प्रकार नारी के लिए उसका श्रृंगार सब कुछ होता है। उसी प्रकार हिंदी भाषा में व्याकरण का महत्वपूर्ण भूमिका होती है।

vyakaran kise kahte hai
स्वागत है आपका एक और useful और एजुकेशनल जानकारी में इस लेख के माध्यम से हम आपको बताने वाले है। व्याकरण किसे कहते है व्याकरण पढ़ने से क्या लाभ है? और Hindi व्याकरण को कितने भागों में बांटा गया है? vyakaran ke kitne ang hote hain और कौन कौन?

Must read- Paryayvachi shabd in Hindi for class 5

Hindi vyakaran के माध्यम में हम हिंदी भाषा को सही तरीके से लिख पढ़ सकते है। व्याकरण के बिना आप हिंदी को सही से लिख पढ़ नहीं सकते है। अगर बिना व्याकरण के हिंदी भाषा को लिखते पढ़ते है तो उसका अलग अर्थ निकल सकता है। चलिए हम जानते है, व्याकरण पढ़ने से क्या लाभ है? । 

जैसे - राहुल बाजार को जाता है। ✖

ऊपर उदाहरण में देख सकते है। यह भाषा के लिखने का सही रूप नहीं है। इसका सही रूप होगा।  राहुल बाजार जाता है। 

Vyakaran kise kahate hain व्याकरण की परिभाषा 

व्याकरण हिंदी भाषा का वह साधन है जिसके माध्यम से हम भाषा को शुद्ध तरीके से लिख, पढ़ तथा बोल सकते है। 

आप ऐसे समझ सकते है किसी भी भाषा के बनावट या संरचना के कुछ सीमा होती है। और इनके पढ़ने लिखने के लिए बहुत सारे नियम होते है। जिसके माध्यम से हम भाषा को सही से लिखना बोलना सिखते है। 

Must read- Samas ke kitne bhed hote hain

अतः भाषा के जिन शास्त्रों के द्वारा इनके नियम और अभिव्यक्तियों को पढ़ा जाता है। उसे हम व्याकरण कहते है। 

व्याकरण का सभी भाषाओं में प्रयोग होता है, जैसे हिंदी भाषा के लिए हिंदी तथा अंग्रेजी भाषा के लिए English grammar और अन्य भाषाओं के लिए भी व्याकरण का प्रयोग होता है। 

vyakaran ke kitne ang hote hain व्याकरण के मुख्यतः कितने अंग हैं?

दोस्तों व्याकरण के मुख्यतः 4 अंग होते है। लेकिन अधिकतर आपने तीन ही अंग के बारे में पढ़ा होगा। यहाँ पर हम व्याकरण के चार अंगो के बारे में विस्तार से पढ़ने वाले है। व्याकरण के 4 अंग निम्नलिखित है। 

  • वर्ण-विचार
  • शब्द-विचार
  • पद-विचार
  • वाक्य-विचार

वर्ण-विचार 

भाषा की वह इकाई(ध्वनि) जिसके टुकड़े नहीं किए जा सकते उसे वर्ण इकाई कहते है। यह भाषा की सबसे छोटी इकाई होती है। 

जैसे- क,ख,ग, ट, ठ इत्यादि। ( इसे अब विभाजित नहीं किया जा सकता है।)
Note- ध्वनि वर्ण का मौखिक रूप होता है। और वर्ण ध्वनि का लिखित रूप है। वर्ण के भी 2 भाग होते है - स्वर और व्यंजन  

शब्द- विचार 

दो या दो से अधिक वर्णो से बने शब्दों को जिसका कोई सार्थक अर्थ व्यक्त हो, उसे शब्द कहते है।  जैसे- रमेश,सुरेश,कमल,पवन, रवि इत्यादि शब्द। 

शब्द विचार को भी कई भागो में बाटा गया है। 
  • इतिहास (स्त्रोत) के आधार पर
  • रचना या बनावट के आधार पर
  • अर्थ के आधार पर

पद- विचार

जब कोई शब्द को कोई वाक्य में प्रयोग होता है। तब उस शब्द को पद कहा जाता है। जैसे- रमेश सेब खा रहा है। 

इस वाक्य में आप देख सकते है कि रमेश एक शब्द  है परन्तु यहाँ रमेश एक कर्ता के स्थान पर है अतः यह पद है।

वाक्य-विचार 

जब बहुत से शब्दों में मिलाकर कोई वाक्य बनाया जाता है तो वह कोई न कोई सार्थक अर्थ प्रदान करते है तो उसे वाक्य कहा जाता है। वाक्य भाषा की सबसे बड़ी इकाई होती है। 
जैसे
  • राहुल बाजार जाता है। 
  • रोहन आराम कर रहा है। 
  • अंकित पढ़ाई कर रहा है। 
  • वह खाना खा रहा है। 
  • रवि सोने जा रहा है। 
ऊपर आप देख सकते है, यह अलग-अलग शब्दों से मिलकर एक सार्थक वाक्य बनता है। अतः यह वाक्य है। 

Hindi Vyakaran पढ़ना क्यों जरूरी होता है?

दोस्तों अभी आपने पढ़ा vyakaran kise kahate hain व्याकरण के कितने अंग होते है। मुझे आशा है कि आपको Hindi vyakaran के बारे में अच्छे से समझ में आया होगा। अगर किसी प्रकार की समस्या हो तो आप हमसे अवश्य पूछ सकते है। 

यहाँ पर चर्चा करने वाले है हिंदी व्याकरण पढ़ना क्यों जरुरी होता है। तो दोस्तों आपको हम बता दे की कोई भी भाषा को अच्छी तरह सीखने के लिए उसके नियम और अभिव्यक्तियाँ के बारे में सीखने की आवश्यकता पड़ती है। जिसे हम व्याकरण के माध्यम से सीख सकते है। 

अगर आप बिना व्याकरण के ज्ञान के कोई कहानी या उपन्यास आदि लिखते है तो है तो बहुत संभावना होती है कि उसका अर्थ या कोई त्रुटि अवश्य हो सकती है।
  
फ़िलहाल हमारी मातृभाषा हिंदी होने के कारण हमें हिंदी लिखने पढ़ने में कोई खास परेशानियों का सामना नहीं करना पड़ता है। फिर भी हमें व्याकरण का ज्ञान होना जरुरी होता है। 

व्याकरण की विशेषताएं ( Vyakaran kise kahate hain)

हिन्दी-व्याकरण संस्कृत व्याकरण के आधार पर होने के कारण भी अपनी  कुछ स्वतंत्र विशेषताएँ रखता है। हिंदी व्याकरण में  संस्कृत व्याकरण की  महत्त्वपूर्ण भूमिका है। 

पं० किशोरीदास वाजपेयी कहते  है कि ''हिन्दी ने अपना व्याकरण अधिकतर संस्कृत व्याकरण के आधार पर ही बनाया है- देखा जाता है कि हिन्दी ने संस्कृत की अपेक्षा सरलतर मार्ग ग्रहण किया है।''

Hindi vyakaran से सम्बंधित अक्सर पूछे जाने वाले सवाल ?

Q-1- व्याकरण में वर्ण क्या होता है ?
Ans- वर्ण ध्वनि का लिखित रूप होता है। 

Q-2- हिंदी भाषा की सबसे छोटी इकाई क्या है?
Ans- वर्ण-विचार हिंदी भाषा की सबसे छोटी इकाई होती है। 

Q-3- व्याकरण में ध्वनि क्या होता है?
Ans-4-ध्वनि वर्ण का मौखिक रूप होता है। 

Q- हिंदी भाषा की सबसे बड़ी इकाई क्या है?
Ans- वाक्य-विचार हिंदी भाषा की सबसे बड़ी इकाई है। 

Q-5- हिंदी व्याकरण के मुख्य कितने भाग होते है?
Ans- हिंदी व्याकरण के मुख्यतः 4 भाग या अंग होते है। 

आपने क्या सीखा ?
दोस्तों आपने इस आर्टिकल के माध्यम से जाना व्याकरण क्या है? Vyakaran kise kahate hain और व्याकरण के कितने अंग होते है। 

मुझे आशा है कि आपको हिंदी व्याकरण के  बारे में जानकारी जरूर helpful लगी होगी। ऐसे ही जानकारी के लिए जुड़े रहिये हमारे साथ और इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें।
Read Also-

No comments:
Write comment

Comment में अपनी राय अवश्य साझा करें !