Thursday, 28 October 2021

100 Shabdarth In Hindi | हिंदी शब्द अर्थ और उनके वाक्य प्रयोग ( Shabd arth in hindi)

By:   Last Updated: in: ,

Shabd arth In Hindi-दोस्तों नमस्कार स्वागत है आपका एक और useful और एजुकेशनल पोस्ट में आज हम इस आर्टिकल में जानने वाले है। shabdarth in hindi (हिंदी शब्दार्थ) के बारे में यहाँ पर हम आपको 100 Shabdarth in hindi यानि शब्द अर्थ और उनके वाक्य प्रयोग भी जानने वाले है।  तो चलिए जानते है।

shabd arth hindi me

शब्दार्थ किसे कहते है। Shabd art in Hindi

दोस्तों शब्दार्थ का मतलब होता है। किसी शब्द का अर्थ होता है।  यहाँ शब्दार्थ का का सीधा संबध शब्द के भाव से होता है। किसी शब्द का समानार्थक शब्द जो शब्द भाव को दर्शाता हो उसे शब्दार्थ कहते है।

Must Read- UP ke 75 jilon ke naam  

मुझे आशा है कि शब्दार्थ की परिभाषा को आप  समझ गए होने अब हम आगे 100 Shabd arth in hindi जानने वाले है और साथ में हिंदी शब्दार्थ और उनके वाक्य प्रयोग भी पढ़ेंगे 

100 Shabdarth in hindi 

शब्द अर्थ वाक्य प्रयोग
अहित बुराई किसी का अहित न हो।
अश्लील गंदा कोई अश्लील काम मत करो
अंबर आकाश अंबर में तारे दिखाई रहे हैं।
अत्याचार जुल्म पशुओ पर अत्याचार मत करो।
अहंकार घमंड धन पर कभी अहंकार नहीं करना चाहिए।
अनिवार्य अत्यंत आवश्यक बच्चों को पढ़ाना अनिवार्य है
सुर देवता पुराणों में कहा जाता है कि पहले कहीं सुर लोक भी था।
सुमन फूल मेरे आंगन में सुमन खिले हैं।
सुरभित सुगंधित गुलाब के फूल सुरभित है।
संशोधन सुधार मुझे मेरे प्रोजेक्ट में काफी संधोधन की आवश्यकता है ।
सिद्ध प्रमाणित कबीरदास एक सिद्धपुरुष थे।
फूहड़ गंवार, बेवकूफ वह बालक फूहड़ हैं।
क्षति घाटा, नुकसान इस धंधे में कभी क्षति कभी मुनाफा तो होता रहता था ।
अहित बुराई हमें भोजन अहित नहीं करना चाहिए ।
अनुपम अनोखा खेतो का दृश्य कितना अनुपन प्रतीत हो रहा है
अन्धकार अँधेरा अन्धकार को सिर्फ उजाला ही हटा सकता है
अंकुश रोक जनसँख्या पर हमें अंकुश लगाना चाहिए
अन्तरिक्ष गगनमंडल अन्तरिक्ष में अनगिनत तारे टिमटिमा रहे है
अक्ल बुद्धि यह कहावत बड़ी प्रचलित है अक्ल बड़ी या भैस
असंभ्य अशिष्ट असभ्य लोगो से सदैव दूर रहना चाहिए
अंजाम नतीजा चोरी करने का अंजाम बहुत बुरा होता है
अलंकार आभूषण एक स्त्री को अलंकार बहुत पसंद होता है
आश्र्वासन दिलासा, भरोसा चुनाव आते ही मंत्री ने जनता को आश्र्वासन देना शुरू कर दिया है।
आलिंगन गले लगाना श्रीराम ने भरतजी का आलिंगन था ।
आक्रमण हमला शेर ने हिरन पर आक्रमण किया।
अविष्कार खोज माइक्रोसॉफ्ट कंपनी का अविष्कार बिल गेट्स ने किया ।
आखेट शिकार पहले राजा महाराजा आखेट के लिए जंगल जंगल में जाते थे ।
उद्गम आरंभ होने की जगह गंगा का उद्गम स्थल हिमालय है।
उपेक्षा अनदेखी धरती पर बढ़ते प्रदुषण की उपेछा करना भारी पड़ सकता है ।
उल्लास प्रसन्नता शादी में सभी के चेहरे पर उल्लास था।
उत्तरदायित्व जवाबदेही अगर यह काम नहीं हुआ तो इसके उत्तरदायित्व तुम होगे ।
उत्थान उन्नति हमें शिक्षा के क्षेत्र में उत्थान करने की जरुरत है।
उपवन बगीचा मेरे घर के पीछे बहुत से उपवन है, जिसमे में रंग-बिरंगे फूल खिले हैं।
क्रांति चमक ईमानदार व्यक्ति के मुख पर क्रांति रहती है ।
कर हाथ, टैक्स भारत ने भी GST कर (टैक्स) लागु कर दिया है।
कुबेर धन के देवता कुबेर को धन का देवता माना गया है ।
क्लेश कष्ट गलत काम करने वाले व्यक्ति सदैव क्लेश में रहते है।
कुलीन अच्छे कुल का रवि का जन्म कुलीन परिवार में हुआ है।
खरा ठीक, विशुद्ध अंकित अपने काम में सदैव खरा उतरता है।
गगनभेदी अकाश को भेदने या चीरनेवाला आजकल की रॉकेट गगनभेदी होते है ।
गति चाल हवाई जहाज की गति बहुत तेज होती है।
गौरव बड़प्पन नीरज चोपड़ा का गोल्ड मेडल लाना हमारे लिए गौरव की बात है।
चिर सदा भगवान राम की कथा चिरकाल तक चलती रहेगी ।
जलज कमल जलज हमेशा तालाब में खिलते है ।
तत्पर सन्नद्ध भारतीय सेना युद्ध में तत्पर रहती है ।
तिरस्कार निरादर कभी किसी गरीब का तिरस्कार नहीं करना चाहिए ।
दुर्भिक्ष अकाल सूखे के कारण इस गावं में कई बार दुर्भिक्ष पड़ा है।
अनायास बिना मेहनत के अनायास कोई काम मत करो ।
अकर्मण्य आलसी अकर्मण्य जीवन मृत्यु के समान है।
अनवरत लगातार अनवरत परिश्रम करते रहो।
अतीत बीता हुआ समय अतीत की चिंता मत करो।
अभियान उद्देश्यपूर्ण यात्रा सरकार समय समय पर ।
अभिराम सुंदर अभिराम दुल्हे को देखकर दुल्हन मन-ही-मन खुश हो गयीं।
अभिमान गर्व कभी अपने ऊपर अभिमान नही करना चाहिए।
अस्थि हड्डी दुर्घटना के कारण में उसकी अस्थि टूट गयी।
अनुचित बुरा छात्रो को कभी अनुचित कार्य नहीं करना चाहिए
अद्वितीय जिसका जोड़ा न हो गाँधीजी एक महान अद्वितीय पुरुष थे।
अभिज्ञ जाननेवाला वह आने वाले खतरों से अभिज्ञ है।
अभिन्न एकरूप, परम कश्मीर भारत का अभिन्न अंग हैं।
अनिल हवा शीतल अनिल चलने से ठण्ड बढ़ रहा है।
अनल आग जंगल में चारो तरफ अनल की ज्वाला फैली है।
अथक निरंतर, बिना थके अपने लक्ष्य को पाने के लिए अथक परिश्रम करते रहो।
अमर जो कभी न मरे शरीर मर सकता है लेकिन आत्मा अमर है।
अवधि समय छुट्टियों की अवधि समाप्त हो गयी।
अगणित जिसकी गिनती न हो भारत में बहुत से अगणित महापुरुष हुए हैं।
आभा चमक महान पुरुष के मुख पर आभा रहती है।
आशंका भय मुझे फ़ैल होने की आशंका है।
आजीवन जीवनभर हमें अपने सपनो के लिए आजीवन प्रयास करना चाहिए
विनाश बरबादी जिसने भी घमण्ड किया उसका विनाश हो गया।
विमान हवाई जहाज मैंने कभी विमान से यात्रा नहीं किया ।
विख्यात मशहूर गंगा नदी संसार में विख्यात है।
व्यथा दुःख किसान व्यथा से सो नहीं पा रहा था।
शिखर पहाड़ की चोटी पुरे साल हिमालय के शिखर पर बर्फ जमी रहती है ।
शिविर खेमा, पड़ाव आज रात हम शिविर में ही रुकेंगे है।
शुल्क फीस स्कूल का शुल्क दिन पर दिन बढ़ता चला जा रहा है ।
सरोवर तालाब सरोवर में रंग-विरंगे कमल खिले हैं।
संतान बाल-बच्चा राजा को कोई संतान नहीं है ।
सतर्क सावधान सड़क पर चलते समय सतर्क रहना चाहिए हैं।
प्रतिष्ठा इज्जत हमें अपनी प्रतिष्ठा खोनी नहीं चाहिए ।
प्रलोभन लालच बहुत से लोग आपको गलत कामों के लिए प्रलोभन भी देंगे ।
पुरस्कार इनाम Class में प्रथम आने पर अविनाश को पुरस्कार मिलेगा।
प्रत्यंचा धनुष की डोरी स्वम्बर में राम ने धनुष की प्रत्यंचा खींची।
प्रभाकर सूर्य सुबह सुबह प्रभाकर की किरणें लाल होती है ।
मितव्ययी कम खर्च करनेवाला आजकल मितव्ययी मित्र बहुत ही कम मिलते है।
बहुधा प्रायः बहुधा बहुत से छात्रों अपनी शिक्षा पूरी नहीं कर पाते है।
रिक्त खाली रिक्त स्थानों की पूर्ति कीजिये ।
लोल चंचल सागर में लोल लहरें उठ रही है।
वरुण जल के देवता हर जगह वरुण देव की पूजा होती है।
वसन कपड़ा राजा ने प्रजा को दान में वसन दिये।
वसुधा धरती युद्ध में वसुधा रक्त से लाल हो जाती है ।
विज्ञापन प्रचारमूलक सुचना विज्ञापन करने के उत्पाद के बिक्री बढ़ जाती है ।
विहान सबेरा उठो, किसान विहान होते ही खेतो में चला जाता है ।
निर्भीक निडर बहादुर व्यक्ति हमेशा निर्भीक होता है ।
नास्तिक ईश्र्वर या वेद को न माननेवाला दुनिया में दो प्रकार के लोग होते है आस्तिक और नास्तिक हैं।
पर्याप्त काफी व्यक्ति को सदैव पर्याप्त भोजन ही करना चाहिए ।
परामर्श राय हमें उसी व्यक्ति से परामर्श लेना चाहिए जो उस काम के बारे में जानता हो ।
परंपरा पुराने समय से अतिथि देव भव की परंपरा सदियों से चली आ रही है।
पुनरावृति दोहराना परीक्षा के पूर्ण हमें प्रश्नों का पुनरावृत्ति कर लेना चाहिए ।
प्रगति विकास भारत प्रगति की ओर बढ़ रहा है।
प्रतिकूल उल्टा मेरा जीवन मेरी इच्छा के प्रतिकूल है।


आपने क्या सीखा ?

तो दोस्तों आपने यहाँ पर जाना 100 Shabdarth in Hindi और शब्दार्थ किसे कहते है। मुझे आशा है कि आपको लिए  यह Shabd art in hindi बहुत ही उपयोगी होंगे।  अगर आपको यह हिंदी शब्दार्थ पसंद आये हो तो इसे अपने दोस्तों को भी शेयर करें ताकि उन्हें भी ऐसे useful जानकारी प्राप्त हो सके। 

अगर आपको भी ऐसे ही useful और शिक्षा से संबधित जानकारी रोजाना चाहते है तो हमारे ब्लॉग को फॉलो करें धन्यवाद !
Read also-

No comments:
Write comment

यह पोस्ट कैसी लगी comment में जरूर बताएं।